नपुंसकता का उपचार Napunsakta Ka Upchar

दोस्तों, अक्सर हम बचपन में कई सेक्सुअल नादानियां या छोटी-छोटी भूल अपने जीवन में करते आते हैं, जिसका बुरा परिणाम हमे बड़े होकर यानी युवा अवस्था में भुगतना पड़ता है, जो आगे चलकर धीरे-धीरे और भी भयानक रूप धारण कर लेती है।
इस लेख के जरिए मैं चर्चा करने जा रहा हूं नपुंसकता के बारे में और उसके उपाए के बारे में।
आपको बता दें कि टेस्टोस्टेरोन(Testosterone) प्रमुख पुरुष हॉर्मोन का नाम है और यह अंडकोषों की कोशिकाओं द्वारा बनाया जाता है। युवा अवस्था आने में काफी समय लग जाता है, अगर ये कोशिकाएं पूरी तरह एक्टिव न रहें तो। इस कारण युवा अवस्था आने भी में काफी समय लगता है यानी बहुत देर से आती है युवा अवस्था और यौन स्तर पर पुरुष बच्चा ही बना रहता है।
टेस्टोस्टेरॉन हॉर्मोन में कमी आ जाने के कारण न केवल पुरूष की सेक्स इच्छा और सेक्स क्षमता में कमी आ जाती है, बल्कि शुक्राणुओं की मात्रा भी बहुत कम हो जाती है। पुरूषों की दाढ़ी-मूंछ आने में भी समय लगता है या दाड़ी-मूंछ आने की गति बहुत धीमी हो जाती है। यदि किसी व्यक्ति में इस हॉर्मोन की कमी है, सेक्स के लक्षणों के विकास में कमी दिखाई देती है या बुढ़ापे में पुरुष हॉर्मोन की मात्रा कम हो जाने का प्रमाण है, तो उस व्यक्ति में पुरुष हॉर्मोन की मात्रा कम हो सकती है।

नपुंसकता के मुख्य कारण :

दोस्तों आपकी जानकारी के लिए बता दें, कि केवल दो ही कारणों से नामर्दी यानी नपुंसकता की समस्या पेश आती है। पहली तो मानसिक और दूसरा शारीरिक रूप से।
मानसिक रूप में तो चिंता या अत्यधिक तनाव के कारण ऐसा होता है और शारीरिक का मतलब ज्यादा बीमार रहना या पुरानें लंबे समय से चले आ रहे रोग के कारण भी शारीरिक नपुंसकता की समस्या पेश आती है।

आइए नामर्दी से जुड़े कुछ अन्य कारणों पर भी चर्चा कर लेते हैं-
हार्मोन्स में परिवर्तन
उच्च रक्त चाप, हृदय संबंधित रोग और शुगर जैसी बीमारी भी नपंुसकता की वजह बन जाती है।
हादसे या दुर्घटना में किसी नस का कटना या कहीं चोट लग जाना।
धूम्र्रपान, शराब या अन्य नशा करने से भी नामर्दी की समस्या पेश आ सकती है।
बहुत ज्यादा हस्तमैथुन करने और स्वप्नदोष की अधिकता के कारण भी नपंुसकता आ जाती है।
सेक्स के दौरान पार्टनर के स्पर्श करते ही स्खलित हो जाना।
सेक्स के समय तुरन्त ही वीर्य का निकलना।
सेक्स के दौरान लिंग में सख्त व कठोरपन न आना या फिर कठोरपन का ज्यादा देर तक न रहना।

यह आर्टिकल आप namardi.in पर पढ़ रहे हैं..

नामर्दी की समस्या में करने वाले उपाय-
अगर व्यक्ति के लक्षण और जांच दोनों में टेस्टोस्टेरॉन की कमी दिखाई देती है, तो ही बाजार में मिलने वाले वाले सिंथेटिक टेस्टोस्टेरॉन अनडेकेनोएट का इस्तेमाल करना चाहिए, वरना नहीं। अगर टेस्टोस्टेरॉन का प्रयोग 40 की उम्र के बाद करना हो, तो यह हॉर्मोन लेने से पहले प्रोस्टेट ग्रंथि की जांच कराना अति आवश्यक है, क्योंकि यह हॉर्मोन प्रोस्ट्रेट ग्रंथि के अदृश्य या सूक्ष्म कैंसर को उभार सकता है।
आज मार्केट में जितने भी ऐसे हॉर्मोन उपलब्ध हैं,  उनमें टेस्टोस्टेरॉन अनडेकोनेट सबसे बेहतर माना जाता है। यदि किसी व्यक्ति को अपने आहार में टेस्टोस्टेरॉन बढ़ाना हो तो हींग या लहसुन की तड़के वाली उड़द की दाल हफ्ते में दो बार खाएं।
सूर्य नमस्कार करें, भी हॉर्मोन के संतुलन में मदद करता है। किशोर इस सिंथेटिक हॉर्मोन का प्रयोग बिना सोचे-समझे न करें, क्योंकि इससे शुक्राणुओं की संख्या कम भी हो सकती है।
जामुन की गुठली को अच्छे से पीसकर उसका चूर्ण व पाउडर बना लें। इस चूर्ण को रोजाना गर्म दूध के साथ लें। इससे आपको नामर्दी की समस्या में बहुत राहत मिलेगी।
पीसी हुई मिश्री 1 चम्मच, सफेद प्याज का रस 1 चम्मच और 1 चम्मच शहद का मिश्रण तैयार करके रोजाना सेवन करें। इसमें कोई दूसरी राय नहीं कि इससे आपकी सेक्स क्षमता में बेहद लाभ होगा।

वीर्य को गाढ़ा और सशक्त करने के लिए आधा चम्मच हल्दी पाउडर, 1 चम्मच शहद में मिला कर सुबह-सुबह खाली पेट खायें। ऐसा नियमित करने से सेक्स पाॅवर बढ़ता है।
नामर्दी की समस्या का उपचार मेवों के सेवन से भी किया जा सकता है। बादाम, खजूर, किशमिश और पिस्ता हर रोज रोज उचित मात्रा में सेवन करने से सेक्स समस्याओं में राहत पहुंचती है।
इलायची दाना 2 ग्राम पिसा, पिसी जावित्री 1 ग्राम, 5 बादाम भीगो कर पीस लें और 10 ग्राम पिसी मिसरी को मिलाकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को 2 चम्मच मक्खन के साथ सुबह खाएँ। इस उपचार विधि से शुक्राणुओं की मात्रा में वृद्धि होती है, जिससे नपुंसकता(नामर्दी की समस्या) समाप्त हो जाती है।
15 ग्राम जायफल, 5 ग्राम अकरकरा, 20 ग्राम हिंगुल भस्म और 10 ग्राम केसर मिलाकर अच्छे से पीस लें। अब इस मिश्रण में शहद मिलाकर घोट लें। फिर चने के दाने के बराबर गोलियाँ बना लें। रोजाना रात को नींद लेने से पहले 2 गोलियाँ दूध के साथ खाएँ। इस आयुर्वेदिक उपाय से लिंग का ढीलापन समाप्त हो जाएगा और नामर्दी से मुक्ति मिलेगी।
सेक्स समस्याओं में इमली के बीज भी होते हैं फायदेमंद। इसके लिए आधा किलो इमली के बीज लें और इन बीजों को 3 तीन दिन तक पानी में भिगोकर रखें। फिर फूले हुए बीजों से छिलके हटा दें और सफेद भाग को खरल में डालकर पीस लें। अब इसमें आधा किलो मिसरी मिलाकर कांच के मर्तबान में रख दें। इस मिश्रण को आधा-आधा चम्मच दिन में दो बार दूध के साथ लें। ऐसा करने से सेक्स क्षमता बढ़ेगी और शीघ्रपतन की समस्या से भी छुटकारा मिलेगा।
अश्वगंधा और बिदारीकंड को 100-100 ग्राम मात्रा में बारीक पीसकर पाउडर तैयार करें। रोजाना सुबह-शाम दूध के साथ आधा चम्मच यह पाउडर या चूर्ण लेने से शुक्राणुओं की संख्या बढ़ती और मर्दाना कमजोरी की शिकायत दूर हो जाती है।

सेक्स समस्या से संबंधित अन्य जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें..  http://chetanclinic.com/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *